शुक्रवार, 18 नवंबर 2011

e khuda tere karam ki.........

ए खुदा तेरे करम की ,नजर किधर न हुई
कौन एसा है की जिस पर तेरी नजर न हुई
माना किस्मत में अँधेरा है मगर ये तो बता
क्या कोई शाम है जिसकी कोई सहर न हुई
वो भी क्या दिल है जो रोया न दुःख में औरो के
वो भी क्या आँख है जो आंसुओ से तर न हुई
अब मसीहा ही बचाए गे मुझे आ कर के
इस ज़माने की दवा कोई कारगर न हुई
इ खुदा तेरे करम की...............

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें